Work Quotes in Hindi – Anmol Vachan by Famous People, Suvichar, Thoughts

सोच विचार करने में समय लगाएँ,  लेकिन जब काम का समय आए, तो सोचना बंद करें और आगे बढ़ें। ~ नेपोलियन बोनापार्ट
Take time to deliberate; but when the time for action arrives, stop thinking and go on. ~ Napolean Bonaparte

अच्छी शुरुआत से आधा काम हो जाता है। ~ अरस्तू
Well begun is half done. ~ Aristotle

कर्म के बिना दूरदर्शिता एक दिवास्वप्न है। दूरदर्शिता के बिना कर्म दुःस्वप्न है। ~ जापानी कहावत
Vision without action is a daydream. Action without vision is a nightmare. ~ Japanese proverb

किसी काम को करने के बारे में जरूरत से ज्यादा सोचना अक्सर उसके बिगड़ जाने का कारण बनता है| ~ ईवा यगं

परिश्रम वह चाबी है,जो किस्मत का दरवाजा खोल देती है | ~ चाणक्य

किसी कार्य को खूबसूरती से करने के लिए मनुष्य को उसे स्वयं करना चाहिए | ~ नेपोलियन

ईमानदारी और बुद्धिमानी के साथ किया हुआ काम कभी व्यर्थ नहीं जाता | ~ हजारी प्रसाद द्विवेदी

मनुष्य जन्म से नहीं बल्कि कर्म से शूद्र या ब्राह्मण होता है | ~ गौतम बुद्ध

जो श्रम से लजाता है, वह सदैव परतंत्र रहता है | ~ शरण

कार्य की अधिकता से उकताने वाला व्यक्ति, कभी कोई बड़ा कार्य नहीं कर सकता | ~ अब्राहम लिंकन

अपने से हो सके, वह काम दूसरे से न कराना | ~ महात्मा गांधी

सच्चा काम अहंकार और स्वार्थ को छोड़े बिना नहीं होता | ~ स्वामी रामतीर्थ

काम की अधिकता नहीं, अनियमितता आदमी को मार डालती है | ~ महात्मा गांधी

महान कार्य शक्ति से नहीं, अपितु उधम से सम्पन्न होते हैं | ~ जॉनसन

पहले कहना और बाद में करना, इसकी अपेक्षा पहले करना और फिर कहना अधिक श्रेयस्कर है | ~ अज्ञात

कमजोर आदमी हर काम को असम्भव समझता है जबकि वीर साधारण | ~ मदनमोहन मालवीय

प्रतिभा एक प्रतिशत प्रेरणा और निन्यानवे प्रतिशत श्रम है | ~ एडीसन

अच्छे कार्य करने के लिए कभी शुभ मुहूर्त मत पूछो | ~ अज्ञात

बड़े कार्य, छोटे कार्यों से आरम्भ करना चाहिए | ~ शेक्सपियर

स्वतंत्र वही है, जो अपना काम स्वयं कर लेता है | ~ विनोबा भावे

योग्यता से बिताए हुए जीवन को,हमें वर्षों से नहीं बल्कि कर्मों के पैमाने से तौलना चाहिए | ~ शेरिडेन

जागरण का अर्थ है कर्म में अवतीर्ण करना | ~ जयशंकर प्रसाद

जो काम आ पड़े, साधना समझ कर पूरा करो | ~ स्वामी रामदास

कहने की प्रकृति छोडो, करने का अभ्यास करो | ~ अज्ञात

प्रत्येक अच्छा कार्य पहले असम्भव नजर आता है।

जो अपने योग्य कर्म में जी जान से लगा रहता है,वही संसार में प्रशंसा का पात्र होता है | ~ ब्राह्मण ग्रन्थ

कार्य उद्यम से सिद्ध होते है, मनोरथो से नही।

गलत काम करने का कोई सही तरीका नहीं हैं |

जीवन में सबसे ज्यादा आनंद उसी काम को करने में है जिसके बारे में लोग कहते हैं कि तुम नहीं कर सकते हो।

आपकी बुद्धि ही आपका गुरु है।

कीर्ति वीरोचित कार्यो की सुगन्ध है।

जीवन में ऐसा काम करो कि परिवार, गुरु और परमात्मा तीनों तुमसे खुश रहें। – स्वामी ज्योतिनंद

कर्म करने मे ही अधिकार है, फल मे नही।

कर्म सरल है, विचार कठिन।

अपने काम में सुन्दरता तलाशो| उससे सुंदर और कुछ हों ही नहीं सकता|    ~ रूमी

हमारे लिए चींटी से बढ़कर और कोई उपदेशक नहीं है। वह काम करती है और खामोश रहती है।

अगर कुछ महत्व रखता है तो वह है कर्म और प्रेम| ~ सिगमंड फ्रोयड

Leave a Reply